The FactShala

तथ्य बिना सत्य नहीं

राजीव गाँधी फाउंडेशन : एक खुलासा और कांग्रेस को सरेंडर करना पड़ा !

1 min read
sonia rahul manmohan

sonia rahul manmohan

The FactShala

राजीव गाँधी फाउंडेशन : एक खुलासा और कांग्रेस को सरेंडर करना पड़ा !

* जब खुद के घर के कांच के हो तो दूसरे के घरों पर पत्थर नहीं मारते.
* सबसे बड़ा आरोप राजीव गाँधी फाउंडेशन पर लग रहा है.

sonia rahul manmohan
sonia rahul manmohan

भारत चीन विवाद में कांग्रेस पार्टी खासकर राहुल गाँधी ने पुलवामा वाली गलती दोहराई. चीन के मामले तो राहुल गाँधी लगातार सरकार पर हमलावर है. सरकार पर सवाल उठाना उनका कर्तव्य है लेकिन कब, कहाँ और कैसे ये बात शायद वो नहीं समझ रहे. भारत की सबसे प्रसिद्ध कहावत है “जब खुद के घर के कांच के हो तो दूसरे के घरों पर पत्थर नहीं मारते.” पुलवामा के सवाल ने मोदी को दोबारा प्रचंड बहुमत दिलाया, चुनाव से पहले पार्टी अगर सवाल करने बचती तो शायद सरकार बन जाती लेकिन इतनी सीट नहीं मिलती. समस्या राहुल गाँधी के सवाल के समय और शब्दों के चयन में है. वो सवाल पूछते हुए लिखते है की “चीन ने हमारी छीन ली, प्रधानमंत्री ने सरेंडर कर दिया, चीन हमारी सीमा में घुस आया है”. टेंशन के समय में ऐसी बातों का मतलब आसानी से घुमाया जा सकता है की, राहुल के कहने का मतलब है की “चीन सीमा पर हमारे जवान हार गए.” उनके रहते चीन हमारी सीमा में घुस गया. कांग्रेस शायद भूल रही है की फ़ौज की हार कोई भी भारतीय बर्दास्त नहीं करता.
rajiv gandhi foundation
rajiv gandhi foundation

भारत चीन सीमा विवाद : भारत के सामने 3 साल में 2 बार घुटने टेक चूका है ड्रैगन !

राजीव गाँधी फाउंडेशन पर आरोप लग रहा है.

कांग्रेस पार्टी और राहुल गाँधी का चीन के मामले पर सरकार पर हमला उल्टा पड़ गया है. बीजेपी राहुल गाँधी के सवालों के जवाब में 1962 से लेकर 2013 तक के कांग्रेस सरकारों का इतिहास बता रही है. आरोप प्रत्यारोप में सबसे बड़ा आरोप राजीव गाँधी फाउंडेशन पर लग रहा है. सोनिया गाँधी इस ट्रस्ट की चेयरपर्सन है जिस पर चीन की कम्युनिस्ट सरकार से पैसे लेने की बात सामने आई है. इस एक खुलासे से कांग्रेस पार्टी बैकफुट पर है. 6 साल बाद भी भ्रष्टाचार कांग्रेस का पीछे नहीं छोड़ रही. राजीव गाँधी फाउंडेशन ने सिर्फ चीन से नहीं बल्कि कई मंत्रालयों, सरकारी संस्थानों समेत उद्योगपतियों से चंदा लिया है. आरोप है की भारत का भगोड़ा मेहुल चौकसी ने भी इस संस्था को डोनेशन दिया था. नीरव मोदी का भतीजा है मेहुल चौकसी जो भारत के सैकड़ों करोड़ रूपये लेकर विदेश भाग गए. टीवी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ के मुताबिक 2014 से 2015 के बीच मेहुल चौकसी की कंपनी ने राजीव गाँधी फाउंडेशन को डोनेशन दिया था. इन दोनों पर पंजाब नेशनल बैंक के 14000 करोड़ के घोटाले का आरोप है.
rajiv gandhi foundation donor list
rajiv gandhi foundation donor list

क्या सोचा क्या हो गया ?
2006 से 2009 के बीच राजीव गांधी फाउंडेशन को चीनी से कई बार चंदा मिला है। इसके अलावे पीएम एनआरएफ फण्ड से भी इस संस्था को डोनेशन मिला. कांग्रेस पार्टी कोरोना के लिए बने पीएम केयर फंड्स को लेकर सवाल उठा रही थी अब लोग कह रहे है कांग्रेस अपने अनुभव के आधार पर पीएम केयर फण्ड के ऑडिट पर सवाल पूछ रही थी. सोचिये राहुल गाँधी कांग्रेस सवाल कैसे बैक फायर हो गया. चीन के मामले में वैसे ही पंडित नेहरू की कहानी पूरा देश जनता है. उसके बाद चीन से पार्टी का गठबंधन और अब ट्रस्ट को चंदे की बात ने चीन बॉर्डर से खींचकर देश की निगाहे 10 जनपथ पर टिका दिया है. पार्टी की मुश्किल ये है की खुद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी ट्रस्ट की हेड है. इसलिए पार्टी को बचाव मुद्रा में आना पड़ा.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *