The FactShala

तथ्य बिना सत्य नहीं

सौम्या चौरसिया कौन है ? घर में मिला कुबेर का खज़ाना, दुबई सिंगापूर में प्रॉपर्टी !

1 min read
सौम्या चौरसिया कौन है

सौम्या चौरसिया कौन है

The FactShala

सौम्या चौरसिया कौन है ? घर में मिला कुबेर का खज़ाना, दुबई सिंगापूर में प्रॉपर्टी !

आयकर विभाग के खुलासे के बाद लोग पूछ रहे है की सौम्या चौरसिया कौन है ? दरअसल सौम्या के घर से इतना काला धन मिला है जिसने आयकर अधिकारीयों के होश उड़ा दिए है. आपने नेताओं के घोटाले और लूट के किस्से जरूर सुने होंगे. भ्रष्ट नेताओं को तो जनता 5 साल बाद ठिकाने लगा देती है, लेकिन भ्रष्ट अधिकारी तब तक देश और राज्य को लूटते रहते है जब तक वो रंगे हाथ पकडे ना जाए. इससे पहले मध्य प्रदेश से ऐसी कई खबरे सामने आई है जहाँ एक बाबू भी करोड़पति निकलता था. लेकिन सौम्या मैडम उन सबकी गुरु निकली, हो भी क्यों ना आखिर वो एक मुख्यमंत्री डिप्टी सेक्रेटरी है. सौम्या चौरसिया कौन है ? कितना काला धन जमा किया है जिसने अधिकारीयों को होश उड़ा दिए ?

सौम्या चौरसिया कौन है
सौम्या चौरसिया कौन है

सौम्या चौरसिया छत्तीसगढ़ सिवील सर्वेंट अधिकारी है. फ़िलहाल उनकी पोस्टिंग मुख्यमंत्री कार्यालय में है और उनकी रिपोर्टिंग सीधे मुख्यमंत्री को है. छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल की डिप्टी सेर्करेटरी पोस्ट पर काबिज सौम्या आयकर छापों की वजह से सुर्ख़ियों में है. छत्तीसगढ़ के कई आईएएस और आईपीएस अधिकारीयों के यहाँ छापेमारी की गई. उन अधिकारीयों में सौम्या का नाम भी शामिल है. उनके घर छापेमारी में अधिकारीयों के 150 करोड़ नगद, 20 किलो से ज्यादा सोना, और विदेशो में भी प्रॉपर्टी की जानकारी मिली है.

कोरोना किट घोटाला : योगी के अधिकारीयों ने आपदा में अवसर तलाश लिया ?

सौम्या चौरसिया के घर लगातार 5 दिनों तक छापेमारी चली, जिसके बाद नगद कैश, सोना समेत दुबई और सिंगापूर में प्रॉपर्टी की जानकारी मिली है. 5 दिनों की छापेमारी के बाद उनके घर से 40 से ज्यादा बैग भरकर अधिकारी निकले. अधिकारीयों की माने तो उन्होंने विदेशी मुद्रा दीवार के अंदर छिपा रखी थी जिसे तोड़कर बरामद किया गया है. आयकर छापेमारी के बाद सौम्या ने कहा की वो किसी भी कानूनी कार्यवाई से निपटने को तैयार है. बताया जाता है की सौम्या मुख्यमंत्री के करीबी अधिकारीयों में शामिल है.

Saumya Chaurasia

मुख्यमंत्री कार्यालय से पहले वो बिलासपुर के पेंड्रा, दुर्ग, भिलाई और पाटन में एसडीएम रह चुकी है. इसके बाद उन्होंने भिलाई नगर निगम में निगम आयुक्त की जिम्मेदारी संभाली थी. 2016 में उन्होंने रायपुर नगर निगम में अपर आयुक्त की जिम्मेदारी संभाली थी. राज्य में सरकार बदलने के बाद उनकी नियुक्ति मुख्यमंत्री के उप सचिव (डिप्टी सेक्रेटरी) पद पर हुई थी. आयकर अधिकारीयों को आशंका है की जितनी बरामदगी उनके घर से हुई है जाँच के बाद ये आंकड़ा बढ़ सकता है.
saumya-chaurasia

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *