The FactShala

तथ्य बिना सत्य नहीं

ट्विटर का वामपंथी कनेक्शन : TMC नेताओं के अकाउंट वेरिफिकेशन पर बड़ा खुलासा !

1 min read
ट्विटर का वामपंथी कनेक्शन

ट्विटर का वामपंथी कनेक्शन

The FactShala

ट्विटर का वामपंथी कनेक्शन : TMC नेताओं के अकाउंट वेरिफिकेशन पर बड़ा खुलासा !

सोशल मीडिया पर अक्सर ट्वीटर के वामपंथी कनेक्शन की चर्चा होते रहती है. लेकिन पहली इसके वामपंथ कनेक्शन को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. आपको बता दे इसके पहले ट्विटर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का अकाउंट ससपेंड कर चूका है. ट्रम्प पर यह करवाई हिंसा फ़ैलाने वाले ट्वीट के आरोप के बाद किया था, जबकि आज भी सैकड़ों वेरिफ़िएड (वामपंथी विचारधारा) अकाउंट मौजूद है. ट्रम्प की तरह भारत में भी दक्षिणपंथी विचारधारा वाले अकाउंट को एक झटके में बंद कर दिया जाता है, जबकि भारत सरकार के आदेश के बावजूद दिल्ली में हिंसा फ़ैलाने वाले अकाउंट को बैन नहीं किया. पहली बार सबूत के साथ ट्वीटर के वामपंथी कनेक्शन का खुलासा हुआ है.

ट्विटर का वामपंथी कनेक्शन
ट्विटर का वामपंथी कनेक्शन

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प दक्षिणपंथी राष्टवादी विचारधारा वाले नेता है इसलिए एक मिनट में उनका अकाउंट बंद हो गया. जबकि फ्रांस में कट्टरपंथियों के समर्थन में ट्वीट करने वाले राजनेताओं के ट्वीटर अकाउंट आज भी मौजूद है. दिल्ली हिंसा में लिप्त ट्वीटर अकाउंट को ट्वीटर ने अभिव्यक्ति की आज़ादी बताते हुए बंद करने से मना कर दिया. अभी हाल ही में दिल्ली में मारे गए रिंकू शर्मा के समर्थन में फण्ड इकठ्ठा करने वाली एक सामाजिक कार्यकर्त्ता का अकाउंट बंद किया गया था. आपको बता दें की वो सोशल मीडिया पर रिंकू के परिवार के लिए चंदा इकठ्ठा कर रही थी. आरोप है की ट्वीटर ने भारत में कुछ शब्द का चुनाव किया है जिन्हे फ़िल्टर करके बैन किया जाता है. आरोप के मुताबिक ‘हिन्दू, देशभक्त, रामभक्त या राष्ट्रवादी’ जैसे शब्द जिस अकाउंट के बायो में लिखा है उनको जानबूझकर टारगेट किया जा रहा है.

Koo App क्या है ? ट्विटर का बैंड बजेगा, अब PM मोदी करेंगे कू ?

आज के दौर में सोशल मीडिया मेनस्ट्रीम मीडिया से ज्यादा ताक़तवर हो चला है. चुनाव जितने से लेकर आंदोलन और अन्य मुद्दे के लिए अब सोशल मीडिया काफी कारगर साबित हो रहा है. पश्चिम बंगाल में इस साल चुनाव होने है. ममता बनर्जी की पार्टी के प्रचार प्रसार का जिम्मा प्रशांत किशोर ने संभाली है. प्रशांत किशोर की वजह से कई टीएमसी नेता पार्टी छोर चुके है. हाल ही में टीएमसी के कद्दावर नेता और पूर्व रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने राजयसभा में पार्टी से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने इस्तीफा देते हुए आरोप लगाया की “जो पार्टी संघर्ष से बनी है, उसे चुनाव जिताने के लिए एक कॉरपोरेट इंसान को हायर किया जाता है। यह अपमानजनक है।” त्रिवेदी ने आरोप लगाए कि, “टीएमसी के सभी बड़े नेताओं के ट्विटर हैंडल पीके की टीम द्वारा मैनेज किए जाते थे और उस हैंडल से पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री को अपशब्द कहे जाते थे।” टीएमसी के कुछ बड़े नेताओं को छोर कर तमाम सांसदों और विधायकों के ट्वीटर हैंडल प्रशांत किशोर की टीम हैंडल कर रही है.

ट्वीटर के वामपंथी कनेक्शन पर अंग्रेजी अख़बार संडे गार्डियन ने बड़ा खुलासा किया है. इस खुलासे से सबसे बड़ा सवाल ये है जब ट्वीटर ने 2017 से पब्लिक वेरिफिकेशन बंद कर रखा है तो टीएमसी के इतने सारे नेताओं का अकाउंट कैसे वेरीफाई हुआ ? रिपोर्ट के मुताबिक प्रशांत किशोर की कंपनी I-PAC की टीम ने कई नेताओं का ट्विटर हैंडल बनाया और फिर कुछ बड़े नेताओं के साथ उनके नाम को Verified कराया। इन सभी नेताओं के नाम की लिस्ट बनाकर अभिषेक बनर्जी के ऑफिस ने पायल कामत (ट्वीटर कर्मचारी) को भेजा गया. पायल ट्वीटर पर “public policy and government” विभाग संभालती है. आपको बता दें की पायल कामत ट्वीटर से पहले प्रशांत किशोर की कंपनी IPAC के साथ काम कर चुकी है. वह 2015 से 2018 तक प्रशांत किशोर की सहयोगी रह चुकी है. इसलिए यह समझना कोई राकेट साइंस नहीं की ट्वीटर की पालिसी कब कैसे और क्यों बदलते रहती है.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *